शक्ति क्या है ?

समस्त साधनाओं के लिए निःशुल्क साधना पूर्व प्रशिक्षण शिविर के पंजिकरण को आम जनमानस के लिए खोल दिया गया है, अब आप निःशुल्क साधना पूर्व प्रशिक्षण हेतु पंजिकरण कर सकते हैं ! कोरोना संक्रमण से देश को राहत मिलते ही पंजिकृत साधकों को आमन्त्रित कर लिया जाएगा ! समस्त दीक्षा/साधना/अनुष्ठान एवं साधनापूर्व प्रशिक्षण की त्वरित जानकारियों हेतु हमारी मोबाईल ऐप इंस्टाल करें ! मोबाईल ऐप इंस्टाल करने हेतु क्लिक करें ! या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः । माँ भगवती आप सब के जीवन को अनन्त खुशियों से परिपूर्ण करें ।

सृष्टि के आदि से लेकर अंत तक की सभी स्थितियों व कार्यो के मूल में शक्ति ही होती है । शक्ति की आवश्यक मात्रा और उचित उपयोग ही मानव जीवन में सफलता का निर्धारण करती है, इसलिए शक्ति का अर्जन और उसकी वृद्धि ही मानव की मूल कामना होती है । धन, सम्पत्ति, समृद्धि, राजसत्ता, शारीरिक बल, अच्छा स्वास्थ्य, बौद्धिक क्षमता, नैतृत्व क्षमता आदि ये सब शक्ति के ही विभिन्न रूप हैं । इनमें असन्तुलन होने पर अथवा किसी एक की अतिशय वृद्धि मनुष्य के विनाश का कारण बनती है ।

सर्वाधिक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि शक्ति की प्राप्ति पूर्णता का प्रतीक नहीं है, वरन् शक्ति का सन्तुलित मात्रा में होना ही पूर्णता है । शक्ति का सन्तुलन विकास का मार्ग प्रशस्त करता है, वहीं इसका असंतुलन विनाश का कारण बनता है । समस्त प्रकृति पूर्णता और सन्तुलन के सिद्धांत पर कार्य करती है । मनुष्य के पास प्रचुर मात्र में केवल धन ही हो तो वह धीरे-धीरे विकारों का शिकार होकर वह ऐसे कार्यों में लग जायेगा जो उसके विनाश का कारण बनेगें । इसी प्रकार यदि मनुष्य के पास केवल ज्ञान हो तो वह केवल चिन्तन और विचारों में उलझकर योजनाएं बनाता रहेगा । साधनों के अभाव में योजनाओं का क्रियान्वयन नहीं हो पायेगा । यदि मनुष्य में असिमित शक्ति हो तो वह अपराधी या राक्षसी प्रवृत्ति का हो जायेगा जिसका परिणाम विनाश ही है ।

जीवन के विकास और उसे सुन्दर बनाने के लिये धन- ज्ञान और शक्ति के बीच संतुलन आवश्यक है ।
श्रीविद्या साधना मनुष्य को तीनों शक्तियों की संतुलित मात्रा प्रदान करती है और उसके लोक परलोक दोनों सुधारती है । जब मनुष्य में शक्ति संतुलन होता है तो उसके विचार पूर्णतः सकारात्मक होते हैं जिससे प्रेरित कर्म शुभ होते हैं और शुभ कर्म ही मानव के लोक – लोकान्तरों को निर्धारित करते हैं तथा मनुष्य सारे भौतिक सुखों को भोगता हुआ मोक्ष प्राप्त करता है ।