श्री ज्योतिर्मणि पीठ !
मणिकूट - नीलकण्ठ

स्वयंसिद्ध श्री महिषमर्दिनी स्तोत्र !