श्री ज्योतिर्मणि पीठ !
मणिकूट - नीलकण्ठ

श्री तान्त्रोक्त रात्रि सूक्तम् !