श्रीविद्या की प्रमाणिकता क्या है ?

समस्त साधनाओं के लिए निःशुल्क साधना पूर्व प्रशिक्षण शिविर के पंजिकरण को आम जनमानस के लिए खोल दिया गया है, अब आप निःशुल्क साधना पूर्व प्रशिक्षण हेतु पंजिकरण कर सकते हैं ! कोरोना संक्रमण से देश को राहत मिलते ही पंजिकृत साधकों को आमन्त्रित कर लिया जाएगा ! समस्त दीक्षा/साधना/अनुष्ठान एवं साधनापूर्व प्रशिक्षण की त्वरित जानकारियों हेतु हमारी मोबाईल ऐप इंस्टाल करें ! मोबाईल ऐप इंस्टाल करने हेतु क्लिक करें ! या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः । माँ भगवती आप सब के जीवन को अनन्त खुशियों से परिपूर्ण करें ।

जिस प्रकार अपौरूषेय वेदों की प्रमाणिकता है उसी प्रकार शिव प्रोक्त होने से आगमशास्त्र (तंत्र) की भी प्रमाणिकता है ।

सूत्ररूप में वेदों में, एवं विशुद्ध रूप से तंत्र शास्त्रों में श्रीविद्या साधना का विवेचन है । शास्त्रों में श्रीविद्या के बारह उपासक बताये गये है – मनु, चन्द्र, कुबेर, लोपामुद्रा, मन्मथ, अगस्त्य, अग्नि, सूर्य, इन्द्र, स्कन्द, शिव और दुर्वासा ये श्रीविद्या के द्वादश उपासक हैं ।

श्रीविद्या के उपासक आचार्यो में दत्तात्रेय, परशुराम, ऋषि अगस्त, दुर्वासा, आचार्य गौडपाद, आदिशंकराचार्य, पुण्यानंद नाथ, अमृतानन्द नाथ, भास्करानन्द नाथ, उमानन्द नाथ प्रमुख हैं । इस प्रकार श्रीविद्या का अनुष्ठान चार भगवत् अवतारों दत्तात्रेय, श्री परशुराम, भगवान ह्यग्रीव और आदिशंकराचार्य ने किया है ।

श्रीविद्या साक्षात् ब्रह्मविद्या है । श्रीविद्या साधना समस्त ब्रह्मांड प्रकारान्तर से शक्ति का ही रूपान्तरण है । सारे जीव-निर्जीव, दृश्य- अदृश्य, चल- अचल पदार्थो और उनके समस्त क्रिया कलापों के मूल में शक्ति ही है । शक्ति ही उत्पत्ति, संचालन और संहार का मूलाधार है । इस प्रकार श्रीविद्या ही वह ब्रह्ममूल विद्या है जो समस्त शक्तियों और समस्त ज्ञान विज्ञान व विद्याओं का एकमात्र सर्वोच्च मूल स्रोत्र है !