श्री ज्योतिर्मणि पीठ !
मणिकूट - नीलकण्ठ

श्रीविद्या के कुल, सम्प्रदाय व परम्पराओं का विस्तार !