श्री ज्योतिर्मणि पीठ !
मणिकूट - नीलकण्ठ

श्री दुर्गा सप्तशती - तृतीय अध्याय !