श्री ज्योतिर्मणि पीठ !
मणिकूट - नीलकण्ठ

कहां ब्रह्म और कहां भ्रम है ?