शिव शक्ति का परम धाम है रहस्यमय श्री होमकुण्ड !

कैलाश त्रिशूली व नन्दा घुंगुटी के मध्य दुर्गम ग्लेशियरों व रहस्यमयी कन्दराओं के बीच स्थित है – परम शक्ति एवं परम शिव का पावन धाम- होमकुण्ड। 16000 फीट पर स्थित इस पावन स्थल पर मां नन्दा का पौराणिक मन्दिर है, जो पत्थरों से निर्मित है। मन्दिर के भीतर मां नन्दा शिलारूप में विराजमान हैं। मन्दिर के बगल में मां नन्दा के धर्मभाई लाटू का मन्दिर है, जिसमें लाटू भी शिलारूप में…

Read More

रहस्यमय रूपकुण्ड एवं मौत की गली – ज्यूरांगली !

श्री नन्दादेवी राजजात मार्ग में वैदिनी बुग्याल से 15 किमी दूर बगुवावासा से आगे 17500 फीट पर स्थित है रहस्यमयी रूपकुण्ड। यहां आज भी सैकड़ों साल पुराने पुराने मानव कंकाल बिखरे पड़े हैं। ऐसी मान्यता है कि राजा यशधवल की राजजात मां नन्दा देवी के प्रकोप के इसी रूपकुण्ड में बर्फीले तूफान में दफन हो गई थी, इसीलिये इसे रूद्रकुण्ड भी कहा जाता है। इस रहस्यमयी कुण्ड को देखने हर साल…

Read More

यौवन, काम व प्रेम के देवता कामदेव का आध्यात्मिक स्वरूप !

कामदेव को सनातन शास्त्रों में प्रेम और काम का देवता माना गया है। उनका स्वरूप युवा और आकर्षक है। वे विवाहित हैं और रति उनकी पत्नी हैं। वे इतने शक्तिशाली हैं कि उनके लिए किसी प्रकार के कवच की कल्पना नहीं की गई है। उनके अन्य नामों में रागवृंत, अनंग, कंदर्प, मनमथ, मनसिजा, मदन, रतिकांत, पुष्पवान, पुष्पधंव आदि प्रसिद्ध हैं। कामदेव के आध्यात्मिक रूप को सनातन धर्म में वैष्णव अनुयायियों द्वारा…

Read More

सोलह कलाओं का रहस्य व उनका परिचय !

कला को अवतारी शक्ति की एक इकाई मानें तो श्रीकृष्ण सोलह कला अवतार माने गए हैं। सोलह कलाओं से युक्त अवतार पूर्ण माना जाता हैं, अवतारों में श्रीकृष्ण में ही यह सभी कलाएं प्रकट हुई थी। इन कलाओं के नाम निम्नलिखित हैं। १. श्री धन संपदा : प्रथम कला धन संपदा नाम से जानी जाती हैं है। इस कला से युक्त व्यक्ति के पास अपार धन होता हैं और वह आत्मिक…

Read More

मन्त्रों व तन्त्रों की उत्पत्ति का रहस्य व परिचय !

प्राचीन आयुर्वेदिक शास्त्र और तंत्र-ग्रन्थों में ऐसी असंख्य वनस्पतियों (जड़ी-बूटियों और फल-फूलों) का उल्लेख मिलता है जो अमृत जैसी प्राणदायक और विष जैसी संहारक हैं। प्रयोग-भेद से अमृतोपम वनस्पति घातक और मारक वनस्पति पोषक हो जाती है। इस बात का उदाहरण संजीवनी बूटी से दिया जा सकता है, जिसने मृत्युतुल्य पड़े लक्ष्मण को क्षण भर में ही जीवन प्रदान कर दिया था। हमारे देश में नाना प्रकार की वनस्पतियां पायी जाती…

Read More